1. Home
  2. हिंदी
  3. Important
  4. Stories
  5. नहीं रहे ‘उड़न सिख’ मिल्खा सिंह, पत्नी की मृत्यु के 5 दिन बाद कोरोना पीड़ित महान धावक ने ली अंतिम सांस
नहीं रहे ‘उड़न सिख’ मिल्खा सिंह, पत्नी की मृत्यु के 5 दिन बाद कोरोना पीड़ित महान धावक ने ली अंतिम सांस

नहीं रहे ‘उड़न सिख’ मिल्खा सिंह, पत्नी की मृत्यु के 5 दिन बाद कोरोना पीड़ित महान धावक ने ली अंतिम सांस

0

चंडीगढ़, 19 जून। ‘उड़न सिख’ के नाम से मशहूर और देश के महान एथलीटों में एक वयोवृद्ध मिल्खा सिंह का शुक्रवार की देर रात निधन हो गया। परिवार के प्रवक्ता ने जानकारी दी कि कोरोना पीड़ित 91 वर्षीय मिल्खा सिंह ने चंडीगढ़ पीजीआई में रात 11.30 बजे अंतिम सांस ली। उनके निधन के साथ ही भारतीय खेल जगत में एक महान युग का अंत हो गया।

पोस्ट कोविड दिक्कतों के बाद मिल्खा को नहीं बचाया जा सका

पीजीआईएमईआर अस्पताल ने भी एक बयान में मिल्खा सिंह की मृत्यु की पुष्टि की। अस्पताल के बयान में कहा गया, ‘मिल्खा सिंह गत तीन जून को यहां भर्ती हुए थे। 13 तारीख तक यहां उनका कोरोना का इलाज चलता रहा। अंततः वह कोरोना नेगेटिव आ गए। हालांकि बाद में पोस्ट कोविड दिक्कतें आने के कारण उन्हें कोविड अस्पताल से मेडिकल आईसीयू में भर्ती कर दिया गया। लेकिन डॉक्टरों की टीम द्वारा की गई पूरी कोशिशों के बाद भी वह क्रिटिकल कंडीशन से बाहर नहीं आ सके और 18 जून की रात 11.30 बजे वह स्वर्ग के लिए प्रस्थान कर गए।’

पत्नी के अंतिम संस्कार भी शामिल नहीं हो सके थे

गौरतलब है कि पांच दिन पहले गत रविवार को मिल्खा सिंह की 85 वर्षीया पत्नी और भारतीय वॉलीबाल टीम की पूर्व कप्तान निर्मल मिल्खा सिंह का भी कोरोना से जूझते हुए मोहाली के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया था। हालांकि मिल्खा खुद अस्पताल में भर्ती थे, लिहाजा वह पत्नी के दाह संस्कार में भी शामिल नहीं हो सके थे।

परिवार के प्रवक्ता ने बताया कि मिल्खा सिंह का अंतिम संस्कार शनिवार की शाम पांच बजे चंडीगढ़ के सेक्टर 25 स्थित श्मशान घाट में किया जाएगा। अंतिम दर्शन के लिए दोपहर तीन बजे उनका पार्थिव शरीर सेक्टर 8 स्थित उनके आवास पर रखा जाएगा।

रोम ओलम्पिक में रिकॉर्ड बनाने के बावजूद पदक से चूक गए थे मिल्खा

अंतराष्ट्रीय एथलेटिक्स करिअर में फ्लाइंग सिंह की सर्वाधिक उल्लेखनीय उपलब्धियों की बात करें तो वह वर्ष 1958 के राष्ट्रकुल खेलों के चैंपियन थे और 1960 के रोम ओलम्पिक खेलों की 400 मीटर दौड़ में रिकॉर्ड तोड़ने के बावजूद पदक से चूक गए थे।

प्रधानमंत्री मोदी समेत कई हस्तियों ने जताया दुख

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अन्य नेताओं ने दिवंगत महान धावक के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है। पीएम मोदी ने एक ट्वीट में कहा, ‘हमने एक महान खिलाड़ी खो दिया है। भारतीयों के दिलों में मिल्खा सिंह के लिए खास जगह थी। उन्होंने लोगों को अपने व्यक्तिव से प्रेरित किया। उनके निधन से मैं बहुत दुखी हूं।’

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट कर मिल्खा सिंह के निधन पर शोक प्रकट किया है। उन्होंने लिखा, ‘मिल्खा सिंह एक बेहतरीन एथलीट और स्पोर्टिंग लेजेंड थे। उन्होंने अपनी उपलब्धियों से देश को गौरवान्वित महसूस कराया था। वह एक शानदार व्यक्ति थे, अपनी अंतिम सांस तक उन्होंने खेल के क्षेत्र में अपना योगदान दिया। उनके निधन की खबर से मैं दुखी हूं। उनके परिवार और प्रशंसकों को संवेदनाएं। ओम शांति।’

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा, ‘उन्होंने विश्व एथलेटिक्स पर एक अमिट छाप छोड़ी है। देश उन्हें सदैव भारतीय खेलों के सबसे चमकीले सितारों में से एक के रूप में याद रखेगा। उनके परिवार और अनगिनत प्रशंसकों के प्रति गहरी संवेदना।’

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने अपनी शोक संवेदना में लिखा, ‘देश में जब भी उड़ान की कहानियां कही जाएंगी, तब एक ऐसी शख्सियत का नाम जरूर आएगा, जिसने रेस के मैदान में देश और करोड़ों भारतीय युवाओं के सपनों को एक नई ऊंचाई दी। मिल्खा सिंह जी, विनम्र श्रद्धांजलि।’

भारतीय फिल्म जगत के महानायक अमिताभ बच्चन ने लिखा है – ‘दुखद, मिल्खा सिंह चले गए, भारत के गौरव, एक महान एथलीट, एक महान इंसान, वाहेगुरु दी मेहर, प्रार्थनाएं…’

फिल्म अभिनेता और मिल्खा सिंह पर बनी फिल्म में मुख्य भूमिका निभाने वाले फरहान अख्तर ने भी संवेदना प्रकट की है। उन्होंने लिखा, ‘मेरे मन का एक हिस्सा यह मानने को बिल्कुल राजी नहीं है कि आप नहीं रहें। हो सकता है, यह जिद हो। वहीं जिद जो मैंने आप से सीखी थी।’

LEAVE YOUR COMMENT